Home hindi पीसीएस अधिकारियों ने बॉबी पंवार के खिलाफ खोला मोर्चा

पीसीएस अधिकारियों ने बॉबी पंवार के खिलाफ खोला मोर्चा

0
पीसीएस अधिकारियों ने बॉबी पंवार के खिलाफ खोला मोर्चा

एसडीएम मनीष बिष्ट पर लगे आरोपों को बताया मिथ्या और तथ्यहीन
पीसीएस दंपति ने बॉबी पवांर को भेजा मानहानि का नोटिस
उत्तराखण्ड बेरोजगार संघ के अध्यक्ष बॉबी पंवार ने लगाए थे मनीष बिष्ट की नियुक्ति में गड़गड़ी के आरोप
देहरादून। एसडीएम मनीष बिष्ट की नियुक्ति में नियमों की अवहेलना का आरोप लगाने वाले उत्तराखण्ड बेरोजगार संघ के अध्यक्ष बॉबी पंवार के खिलाफ पीसीएस अफसरों में रोष बढ़ता ही जा रहा है। ऊधमसिंनगर के बाद अब देहरादून जिले के पीसीएस अधिकारियों ने भी इस सम्बंध में मिथ्या और तथ्यहीन आरोप लगाने वालों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की मांग की है। देहरादून के पीसीएस अधिकारियों ने भी सचिव कार्मिक के साथ ही उत्तराखण्ड पीसीएस संघ के अध्यक्ष को ज्ञापन भेजकर कहा है कि कार्मिक विभाग और सरकार की छवि खराब करने वाले पर विधिक कार्रवाई अमल में लाई जानी चाहिए।

बताते चलें कि उत्तराखंड बेरोजगार संघ के अध्यक्ष बॉबी पंवार ने बीते दिन प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए आरोप लगाए थे कि एसडीएम मनीष बिष्ट की नियुक्ति नियमों के विपरीत हुई है। उनका आरोप है कि मामला पूर्व की पीसीएस परीक्षा 2012 का है, जिसमें लोक सेवा आयोग द्वारा भूतपूर्व सैनिक का SDM पद न होने के बावजूद भी मनीष बिष्ट को SDM के पद पर नियुक्ति दे दी गई।

इस मामले में पीसीएस अधिकारियों ने मनीष बिष्ट की नियुक्ति को लेकर लगाए गए सभी आरोपों को सिरे से खारिज किया है। उनका कहना है कि झूठे आरोप लगाकर न सिर्फ सरकार और शासन के फैसले पर सवाल उइए जा रहे हैं बल्कि कार्मिक विभाग की छवि खराब करने का प्रयास किया जा रहा है। बीते शनिवार को ऊधमसिंनगर के पीसीएस अधिकारियों ने इस मामले में नाराजगी जताते हुए उत्तराखण्ड पीसीएस अधिकारी संघ से दखल देने की मांग की थी। ज्ञापन में कई पीसीएस अधिकारियों के हस्ताक्षर हैं जिनमें टीएस मर्तोलिया, जयभारत सिंह, कौस्तुभ मिश्र, नरेश दुर्गापाल, शिप्रा जोशी पांडे, तुषार सैनी, गौरव पांडे, विवेक राय आदि शामिल थे।

रविवार को देहरादून के पीसीएस अधिकारियों ने भी झूठे आरोप लगाने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का दबाव पीसीएस अधिकारी संघ पर बनाया है। कार्मिक सचिव और पीसीएस संघ के अध्यक्ष को पत्र भेजेने वाले पीसीएस अधिकारियों में योगेश मेहता, हरगिरी, अपर्ण ढौंडियाल, विनोद कुमार, राहुल कुमार गोयल, वीर सिंह बुद्धियाल, रामजी शरण शर्मा, प्रत्यूष सिंह, शलिनी नेगी शामिल हैं।

वहीं नैनीताल पीसीएस संगठन के सुधीर कुमार एसडीएम, जिसका पक्ष बॉबी पंवार कर रहा था ने भी इस प्रकार के झूठे आरोप लगाने पर इस पर विधिक कार्यवाही करने का अनुरोध कार्मिक सचिव को किया है
वहीं जैसे ही पीसीएस अधिकारियों का यह पत्र वायरल हुआ बेरोजगार संगठन के अध्यक्ष ने भी अपनी तीखी प्रतिक्रिया इस पर दे डाली। बेरोजगार संगठन के बॉबी पवार ने एक्स पर पोस्ट करते हुए लिखा ‘प्रदेश में ईमानदार कर्मचारी और अधिकारी तो बच जाएंगे परंतु बेईमानों को सही समय आने पर बेहतर जवाब दिया जाएगा’ इसके साथ उन्होंने उन 18 पीसीएस अधिकारियों के हस्ताक्षर वाले पत्र को भी इसमें अटैच किया है।

माना जा रहा है कि इस मामले में जिस तरह बेरोजगार संघ ने आक्रामक रुख दिखाया है उसके बाद पीसीएस अधिकारी एक साथ खड़े होकर मजबूती से अपनी बात मुख्यमंत्री के सामने भी रखने जा रहे हैं। हालांकि, अभी सचिव कार्मिक को पत्र लिखकर इस पूरे प्रकरण में अधिकारियों ने पहली बार किसी एक पीसीएस को लेकर इस तरह जिला स्तर पर अपनी एक जुटता दिखाई है।
बताते चलें कि उत्तराखंड बेरोजगार संघ के अध्यक्ष बॉबी पंवार ने बीते दिन प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए आरोप लगाए थे कि एसडीएम मनीष बिष्ट की नियुक्ति नियमों के विपरीत हुई है। उनका आरोप है कि मामला पूर्व की पीसीएस परीक्षा 2012 का है, जिसमें लोक सेवा आयोग द्वारा भूतपूर्व सैनिक का SDM पद न होने के बावजूद भी मनीष बिष्ट को SDM के पद पर नियुक्ति दे दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here